home page

जोमैटो के नुकसान पर लगा विराम और घटकर रहा है 251 करोड़, रेवेन्यू में हुई 62% की बढ़ोतरी

Zomato ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के नतीजे जारी किए। इस अवधि में, कंपनी अपने राजस्व में 26% की वृद्धि करने में सफल रही। इसके अतिरिक्त, Zomato ने यह भी कहा कि उसने अपने ग्राहक आधार के साथ-साथ अपने सक्रिय उपयोगकर्ताओं में भी वृद्धि देखी है।
 | 
जोमैटो के नुकसान पर लगा विराम और घटकर रहा है 251 करोड़

Zomato ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के नतीजे जारी किए। इस अवधि में, कंपनी अपने राजस्व में 26% की वृद्धि करने में सफल रही। इसके अतिरिक्त, Zomato ने यह भी कहा कि उसने अपने ग्राहक आधार के साथ-साथ अपने सक्रिय उपयोगकर्ताओं में भी वृद्धि देखी है।

अपने कारोबार में सुधार की कोशिशों के बावजूद सितंबर तिमाही में Zomato का घाटा जारी रहा। हालांकि घाटा पहले की तुलना में कुछ हद तक कम हुआ है। साल-दर-साल आधार पर कंपनी का शुद्ध घाटा जुलाई में 430 करोड़ रुपये से घटकर सितंबर में 251 करोड़ रुपये हो गया। पिछले एक साल में कंपनी का राजस्व 2% बढ़कर 1,661 करोड़ रुपये हो गया।

अगस्त में ब्लिंकिट को किया था अधिग्रहण 

आपको बता दें कि Zomato ने अगस्त में ब्लिंकिट का अधिग्रहण किया था। इस आय रिपोर्ट में ब्लिंकिट के लगभग 50 कार्यदिवस शामिल हैं। Zomato ने घोषणा की कि उसने 2018 की पहली तिमाही में बिलियन डॉलर के राजस्व का आंकड़ा पार कर लिया है। कंपनी ने कहा कि उसका सकल ऑर्डर मूल्य 26% तिमाही-दर-तिमाही बढ़कर 14.82 बिलियन डॉलर हो गया, जबकि राजस्व में 44% तिमाही-दर-तिमाही की वृद्धि हुई। .

कंपनी ने क्या कहा?

जोमैटो के प्रबंध निदेशक और सीईओ दीपिंदर गोयल ने कहा कि उनका खाद्य वितरण व्यवसाय बढ़ रहा है और तेजी से लाभदायक होता जा रहा है। मेरा मानना ​​है कि व्यापार में तेजी से बढ़ने की क्षमता है। अन्य प्रकार के व्यवसायों की तुलना में त्वरित सेवा व्यवसाय अच्छा नहीं कर रहा है।

निवेशक फिलहाल ब्लिंकिट पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं, लेकिन मेरा मानना ​​है कि यह भविष्य में बदलेगा। उन्होंने आगे कहा कि, आजकल मंदी का असर न सिर्फ कारोबार पर पड़ रहा है, बल्कि पूरी अर्थव्यवस्था पर भी इसका नकारात्मक असर पड़ रहा है।

जोमैटो के शेयरों का हाल

Zomato के शेयर गुरुवार को 2.53% की गिरावट के साथ 63.65 रुपये पर बंद हुए। 52 सप्ताह का निचला स्तर 40.60 रुपये और उच्च 169 रुपये है। अभी यह अब तक के उच्चतम स्तर से 105.35 रुपये सस्ता है। पिछले एक साल में इसमें 52 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई है।

Disclaimer :इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टिviraldailykhabar.comद्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है और इसे मनोरंजन के लिए तैयार किया गया है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन या इंटरनेट पर रीसर्च ज़रूर कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें।viraldailykhabar.comपोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।