Chanakya Niti: इन आदतों वाली लड़की से शादी की मत कर देना भूल, वरना अपनी आदतों से छीन लेगी परिवार की खुशियां

Mohini Kumari
3 Min Read

यद्यपि आचार्य चाणक्य की नीतियां कठोर हैं, लेकिन उनमें जीवन की सच्चाई छिपी है। चाणक्य नीति के अनुसार, पुरुष और स्त्री दोनों को शादी को लेकर सतर्क रहना चाहिए और बहुत विचार विमर्श के बाद ही अंतिम निर्णय लेना चाहिए।

चाणक्य नीति के प्रथम अध्याय के चौबीसवें श्लोक में आचार्य चाणक्य ने कहा कि बुद्धिमान व्यक्ति को श्रेष्ठ कुल से आई कुरूप (यानी सौंदर्यहीन) कन्या से भी विवाह करना चाहिए, लेकिन नीच कुल से आई सुंदर कन्या से नहीं। वैसे भी विवाह को अपने समान कुल में ही करना चाहिए।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि शादी करने के लिए सुंदर कन्या देखने के चक्कर में लोग कन्या के गुणों और उसके कुल की अनदेखी करते हैं। ऐसी कन्या से विवाह करना सदा ही दुखदायी होता है, क्योंकि ऐसी कन्या की परंपरा भी नीच होगी।

उसके उठने-बैठने, बातचीत करने या विचार करने की क्षमता भी कम होगी। यद्यपि, भले ही वह कन्या कुरूप या सुंदर हो, उसका व्यवहार अपने कुल के अनुरूप होगा।

आचार्य चाणक्य ने कहा कि ऊंचे कुल की कन्या अपने कामों से अपने कुल का मान बढ़ाएगी, जबकि नीचे कुल की कन्या अपने व्यवहार से अपने परिवार की प्रतिष्ठा कम करेगी।

वैसे भी, विवाह करना सदा अपने समान वर्ग में ही उचित होता है, अपने से कम वर्ग में नहीं। “कुल” यहां परिवार का चरित्र नहीं बल्कि संपत्ति है।

चाणक्य नीति के प्रथम अध्याय के 16वें श्लोक में कहा गया है कि विष में भी अमृत होना चाहिए। यदि सोना या मूल्यवान वस्तु किसी अपवित्र या अशुद्ध वस्तु में पड़ी हो तो वह भी उठा लेने योग्य है।

यदि एक नीच व्यक्ति कला, विद्या या गुणों से संपन्न है, तो उसे कुछ भी सीखने में कोई बाधा नहीं है। इसी तरह अच्छे गुणों से युक्त स्त्री रूपी रत्न को लेना चाहिए।

इस श्लोक में आचार्य गुणों को अपनाने की बात कर रहे हैं। यदि किसी नीच व्यक्ति के पास कोई अच्छा गुण या ज्ञान है, तो उसे उससे सीखना चाहिए.

इसका मतलब यह है कि जब भी किसी को कुछ अच्छा मिलता है, उसे उसे हाथ से नहीं जाने देना चाहिए। नीच के पास गुण है, जबकि विष में अमृत है।

जबकि एक अन्य श्लोक में आचार्य चाणक्य ने कहा कि स्त्रियों का भोजन दोगुना, बुद्धि चौगुनी, साहस छह गुना और कामवासना आठ गुना होता है। इस श्लोक में आचार्य ने स्त्री की कई विशेषताओं को उजागर किया है। स्त्री के ये ऐसे पहलू हैं, जो आम लोगों को नहीं दिखते।

Share this Article