बॉलीवुड

धरमेंदर और जीनत अमान के इस गाने से हो गयी थी महिलाये नाराज वजह थी की

अपने दौर में एक एक्टर ने सबका दिल जीता था और उसका नाम था धरमेंदर और जो हेरोइन थी सबकी पसंद उनका नाम है जीनत अमान ,लेकिन सन 1977  की बात है की इन दोनों की एक फिल्म आई थी जिसका नाम था धर्म वीर जिसको लोगो ने बहुत ही ज्यादा पसंद किया था और इस फिल्म ने रिकॉर्ड तोड़ कमाई भी की थी .लेकिन इस फिल्म के एक गाने ने निदेशक की रातो की नींद उड़ा दी थी क्योकि इस फिल्म के एक गाने का महिला संगठनो ने बहुत विरोध किया था .

कोनसा था ये गाना और क्यों हुआ था विरोध 

इस फिल्म में धरमेंदर जीनत अमान ,प्राण और नीतू लीड रोल में थे ,इस फिल्म में एक ऐसा गाना था जिसको लेकर महिलाओ ने प्रदर्शन किया था और फिल्म में ये गाना बदलना पड़ा था .इस फिल्म को रिलीज़ हुआ 44 साल के करीब हो गए है ,लेकिन इस फिल्म को अब भी लोगो ने याद रखा हुआ है लेकिन इस फिल्म में एक गाने में विरोध हुआ था जो की आज भी सबको याद है .

फिल्म के गानों का जब एल्बम रिलीज़ हुआ था तो एक गाना ऐसा था जिसका चारो तरफ महिला संगठनो द्वारा भारी विरोध किया गया था .

फिल्म में एक गाना था जिसके बोल थे सात अजूबे इस दुनिया में आठवी अपनी जोड़ी ,इस गाने में कुछ वर्ड ऐसे थे जिसको लेकर महिलाओ को कुछ आपति थी ओर ये गाना रिलीज़ होते ही महिलाओ ने बवाल मचा दिया था .

गाने के अंत में इस गाने को बनाने वाले आनंद बक्षी ने कुछ ऐसा लिख दिया था जिस को लेकर बवाल मच गया था .

गाने में एक अंतरा था जिसके बोल थे -ये लड़की है या फिर रेशम की डोर ,कितना गुस्सा है कितना मुह जोर ,ढीला न छोड़ देना हसके लगाम लगा के रखना कसके ,मुश्किल में काबू आया लड़की हो या घोड़ी ,इस लाइन लड़की हो या घोड़ी को लेकर ही महिलाओ ने विरोध प्रदर्शन किया था .

महिलाओ ने जब विरोध शुरू किया था फिल्म के निदेशक ने आनंद बक्षी से इस लाइन को हटा कर दूसरी लाइन लिखवाई और दुबारा से इस लाइन को रिकॉर्ड किया गया .

इस गाने को सुपर स्टार धरमेंदर ,जीनत ,जितेंदर और नीतू पर फिल्माया गया था गाने में आवाज़ दी थी मोहमद रफ़ी और मुकेश ने .

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button