Haryana Mosam: हरियाणा में हल्की बूंदाबांदी ने बढ़ाई मौसम में ठंडक, जाने बारिश को लेकर मौसम विभाग का ताजा अपडेट

Mohini Kumari
3 Min Read

हिमाचल प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में मौसम के बदले मिजाज ने एकाएक ठंड का प्रभाव भी डाला। ज्यादातर जिलों में दिन भर बादल छाए रहने से तापमान गिर गया है।

कई स्थानों पर हुई हल्की बूंदाबांदी

कुछ स्थानों पर बहुत हल्की वर्षा हुई या बूंदाबांदी हुई। अब 29 नवंबर से 30 नवंबर तक आसमान में बादल रहने और मौसम बदलने की संभावना है। क्षेत्र में कुछ जगहों पर बूंदाबांदी हो सकती है, जबकि कुछ स्थानों पर सुबह कोहरा छा सकता है।

पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से हुई बारिश

यह स्थिति पर्वतीय क्षेत्र में ऊंची चोटियों पर ताजा बर्फबारी और पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक प्रभाव से हुई है, मौसम विशेषज्ञों का कहना है। इसके अलावा, नवंबर के महीने में मैदानी क्षेत्रों में भारी ठंडक का अनुमान लगाया जा रहा है।

कमजोर पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव  से मौसम पर पड़ेगा असर 

वर्तमान मौसम व्यवस्था के तहत, पश्चिमी विक्षोभ औसत समुद्र तल से 4.5 किलोमीटर और 12.0 किलोमीटर ऊपर है। इसकी धुरी लगभग 5.8 किलोमीटर औसत समुद्र स्तर से ऊपर है। साथ ही, एक ताजा लेकिन कमजोर पश्चिमी विक्षोभ से पश्चिमी हिमालय प्रभावित हो सकता है, जो 30 नवंबर तक चलेगा।

हरियाणा में शुष्क रहेगा मौसम

ताजा हल्की बूंदाबांदी के बाद राज्य में आम तौर पर शुष्क मौसम रहने की संभावना है, मौसम पूर्वानुमान कहते हैं। राज्य के अधिकांश जिलों में न्यूनतम तापमान दो से तीन डिग्री सेल्सियस तक गिरने की संभावना है अगले दो से तीन दिन। 28 और 29 नवंबर को सुबह के समय राज्य के कुछ भागों में मध्यम से घना कोहरा रहने का अनुमान है।

कहां हुई बारिश? 

सोमवार को राज्य में सबसे अधिक 26.1 डिग्री सेल्सियस (फरीदाबाद जिले के बोपानी) और सबसे कम 10.4 डिग्री सेल्सियस (नारनौल) था। झज्जर, महेंद्रगढ़, हिसार के बालसमंद और गुरुग्राम के कुछ हिस्सों में हल्की वर्षा या बूंदाबांदी हुई।

मौसम में बदलाव का बना रहेगा क्रम

उधर, मौसम विभाग का अनुमान है कि अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में कम दबाव का क्षेत्र बनने से अगले कुछ दिनों में मौसमी बदलाव का क्रम बना रहेगा। इस बीच, बंगाल की खाड़ी पर कम दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान में बदल सकता है।

Share this Article