यहां बेटी के जवान होती ही उसे पिता बना लेता है अपनी दुल्हन, मां की नजरों के सामने ही बेटी बन जाती है उसकी सौतन

Mohini Kumari
3 Min Read

आज दुनिया पहले से बहुत अधिक विकसित है। जबकि पहले लोगों को भ्रांतियां पिछड़ा रखती थीं, समय के साथ लोग पढ़े-लिखे बनते गए। ऐसे में उन्होंने कई बुरी आदतों का पालन करने से इनकार कर दिया।

लेकिन आज भी कुछ लोग इन बुरी आदतों को मानते हैं। उनका कहना है कि इन रिवाजों से ही उनकी पहचान है। भले ही इसके लिए उन्हें अपने पारिवारिक संबंधों को शर्मसार करना क्यों नहीं पड़ता।

कुप्रथाओं की चर्चा करते समय बांग्लादेशी लोगों का नाम जरूर आता है। इस समुदाय में बाप-बेटी का रिश्ता बदनाम है। ठीक है, यहां बेटियां अपने पिताजी से डरती हैं क्योंकि वे उसके सीने से लगकर हर तरह की मुसीबत से बच जाती हैं।

इसके पीछे भी बहुत भयानक कारण है। दरअसल, बांग्लादेश के इस समुदाय में बाप बेटी का शौहर बन जाता है जैसे ही वे जवान होते हैं।

पहले पिता, फिर शौहर

हम बांग्लादेश की मंडी जनजाति से बात कर रहे हैं। इस जनजाति में एक बहुत अजीब प्रथा है जो सदियों से चली आ रही है। यहां, अगर कोई महिला कम उम्र में विधवा हो जाती है, तो मर्द उससे दूसरा निकाह कर लेता है।

उसे इस निकाह में पत्नी के सारे अधिकार मिलते हैं। उसे भोजन देता है। लेकिन अगर महिला की पहली शादी से कोई बेटी है तो वह भी निकाह कर लेती है।

वह इस शर्त पर विधवा को विवाह करने को तैयार है। यानी एक आदमी जिस बच्ची को कम उम्र में जान बुलवाता है, बाद में उसी का शौहर बन जाता है।

खुद को मानता है मसीहा

मंडी जनजाति के लोग सदियों से इस बुरी आदत को मानते आ रहे हैं। उनका कहना है कि इस रिवाज के कारण वे दो महिलाओं को मार डालते हैं। पहले विधवा मां की, फिर उसकी बेटी की।

लेकिन आज भी कई बच्चियों की जिंदगी इस बुराई ने बर्बाद कर दी है। मंडी जनजाति की एक लड़की ओरोला ने इस बुरी आदत का खुलासा किया। उसने बताया कि वह बहुत छोटी थी जब उसके पिता मर गए।

तब उसकी मां ने दूसरे आदमी से शादी की। ओरोला ने पिता को सम्मान दिया। लेकिन जब वह छोटी थी, तो इसी सौतेले बाप ने उससे शादी कर उसकी इज्जत लूट ली।

Share this Article