अगले 72 घंटों में घर से बाहर निकलने से पहले साथ में रख लेना छतरी, इन जगहों पर किसी भी टाइम हो सकती है तेज बारिश

Mohini Kumari
2 Min Read

वर्तमान में देश में कई सिस्टम सक्रिय हैं, जैसा कि मौसम विभाग ने जारी वेदर बुलेटिन में बताया है। इन सिस्टम की वजह से अलग-अलग स्थानों में बारिश, बर्फबारी या ओलावृष्टि हो सकती है।

दक्षिण-पूर्व राजस्थान और आसपास पश्चिमी मध्य प्रदेश एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन हैं। यही नहीं, 29 नवंबर की रात से पश्चिमी हिमालय क्षेत्र पर एक नया पश्चिमी विक्षोभ दस्तक देगा। इससे जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में मौसम बदतर होगा।

उत्तर पश्चिमी भारत के मैदानी क्षेत्रों पर भी इस पश्चिमी विक्षोभ का असर होगा। फिलहाल, वर्तमान पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा और दिल्ली एनसीआर से सटे उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों में बादल आ रहे हैं।

दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में अगले तीन दिनों तक खराब मौसम रहेगा। मौसम विभाग ने कहा है कि दिल्ली में 30 दिसंबर तक आसमान में बादल रहने और कुछ स्थानों पर हल्की बारिश होने की संभावना है। IMD ने मध्यम से हल्की बारिश की चेतावनी दी है।

मौसम विज्ञानियों ने कहा कि बारिश के बाद एक नया मुद्दा सामने आ सकता है। पहली दिसंबर तक दिल्ली एनसीआर में आसमान में बादल रहेंगे। इसमें पहली दिसंबर से कमी आनी शुरू होगी।

दो दिसंबर को आसमान साफ रहेगा, लेकिन एक नई समस्या आने लगेगी। दो दिसंबर से सुबह के वक्त दिल्ली एनसीआर में कोहरे और धुंध का प्रकोप देखा जा सकता है।

हालाँकि यह तत्कालीन मौसमी हालात पर बहुत निर्भर करेगा। मौसम विभाग ने हाल ही में दी गई जानकारी के अनुसार चार दिसंबर तक कोहरे का प्रकोप हो सकता है।

Share this Article