खबरेजरा हट केदेश दुनियाबॉलीवुड

इत्र कारोबारी के घर छापेमारी में मिले 170 करोड़,उत्तर प्रदेश के इस नेता का है करीबी

हमारे देश में काले धन को जमा करने वाले धनकुबेर ओ की कमी नहीं है। देश आजाद होने के बाद से ही लगातार भ्रष्टाचार ने हमारे देश के रगों में इतना गहराई से घर किया हुआ है कि आए दिन हम कहीं ना कहीं पर इनकम टैक्स के द्वारा की गई छापेमारी में करोड़ों रुपए की काला धन संपत्ति बरामद किए जाने की खबर सुनते रहते हैं। ऐसी ही एक छापेमारी की खबर उत्तर प्रदेश के कानपुर से सामने आई है जहां पर एक इतर कारोबारी के घर में छापा मारते ही सभी लोग हैरान रह गए।

इत्र कारोबारी के घर छापेमारी

उत्तर प्रदेश के कानपुर में रहने वाले इतर कारोबारी पीयूष जैन के घर आयकर विभाग के द्वारा छापेमारी की गई। आयकर विभाग को पीयूष जैन के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे जिसके बाद यह छापेमारी की कार्यवाही की गई। कानपुर में स्थित पीयूष जैन नाम के इतर कारोबारी के घर पर छापेमारी करते हैं सभी अधिकारी हैरान रह गए हैं। घर में कई सारी अलमारियों में करोड़ों रुपयों का क्या है भर कर रखा गया था। इतना सारा कैश देखकर सभी अधिकारियों के होश उड़ गए।

170 करोड़ से ज्यादा राशि बरामद

इतना ही नहीं घर में एक तहखाना भी बनाया हुआ था। उत्तर खाने से भी करोड़ों रुपए बरामद किए गए। नोटों की संख्या इतनी ज्यादा थी कि इनकम टैक्स के कर्मचारियों को यह नोट गिनने के लिए बैंकों से नोट गिनने वाली मशीन मंगवानी पड़ी। नोट गिनते गिनते लगभग 40 घंटे से ज्यादा का समय बीत गया। इसके बाद जो आंकड़ा सामने आया उसे सुनकर आप हैरान हो जाओगे। लगभग 170 करोड से भी ज्यादा नगद क्या इस चित्र कारोबारी के घर से बरामद किया गया।

पैतृक निवास पर भी छापेमारी

इतना ही नहीं आयकर विभाग के द्वारा पियूष जैन के साथ ही कारोबारियों को भी रडार पर लिया गया। पीयूष जैन के साथ कारोबार करने वाले सभी कारोबारियों से पूछताछ की गई और छानबीन की गई। इसके साथ ही पीयूष जैन के पैतृक गांव कन्नौज में भी उनके निवास स्थान पर छापेमारी की गई और उसकी कार्रवाई अभी चल रही है। पीयूष जैन के घर से मिला सारा क्या विभाग के द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक में जमा करवा दिया गया है और आगे की कार्रवाई चल रही है।

Rohit

I am writing article last 5 years, and i write article in every niche and now working on Viral Daily Khabar Website.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button