Breaking News

मुश्किल समय में शाहरुख खान के काम आई केवल जूही चावला, आर्यन खान केस में कि यह मदद

बीते लगभग 1 महीने से शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान का मामला गरमाया हुआ है। शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान बीते 3 अक्टूबर से मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद थे जिन्हें मुंबई नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के द्वारा तथाकथित नशीली और हानिकारक चीजों का सेवन करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। आर्यन खान की जमानत के लिए शाहरुख खान की ओर से रखे गए वकीलों को काफी मशक्कत करनी पड़ी इसके बाद आखिरकार 28 अक्टूबर को आर्यन खान को मुंबई हाई कोर्ट ने जमानत दे दी और 30 अक्टूबर को आर्यन खान मुंबई के आर्थर रोड जेल से रिहा हो गए।

बता दें कि यह 1 महीने का समय शाहरुख खान और उनके परिवार के लिए काफी मुश्किलों भरा गुजरा। जानकारी के अनुसार आर्यन खान जिस हानिकारक चीज के सेवन के मामले में पकड़े गए थे उसके कारण बॉलीवुड के कई बड़े सितारों ने शाहरुख खान से दूरियां बना ली थी। सभी को डर था कि कहीं इस मामले में उनका भी नाम सामने ना आ जाए इसलिए किसी ने भी शाहरुख खान की मदद करने के लिए या फिर उनसे संपर्क करके उन्हें सांत्वना देने के लिए पहल नहीं की।

शाहरुख खान की पुरानी दोस्त जूही चावला शाहरुख खान की काम आई। बता दे की जूही चावला शाहरुख खान की सबसे पुरानी और सबसे अच्छी दोस्त है और वह समय-समय पर शाहरुख खान का बुरे समय में साथ देती रही है ऐसे में इस बार भी जब सभी फिल्मी सितारों ने शाहरुख खान का साथ छोड़ दिया तो केवल जूही चावला ने ही उनकी मदद के लिए हाथ बढ़ाया। जानकारी के अनुसार जूही चावला ने आर्यन खान की जमानत के कागजात पर हस्ताक्षर किए।

जेल से रिहाई के कुछ नियम होते हैं जिनके तहत अपराधी के रिहाई के लिए किसी एक ऐसे व्यक्ति को दस्तखत करने पड़ते हैं जिसका पुलिस के सामने कोई पुराना रिकॉर्ड ना हो और जूही चावला इन नियमों में फिट बैठी। बीते 30 अक्टूबर को जब आर्यन खान मुंबई की आर्थर रोड जेल से रिहा हुए उस समय जूही चावला नहीं आर्यन खान की रिहाई के सभी दस्तावेजों पर दस्तखत किए और उनकी जमानत ली। ऐसे में जूही चावला शाहरुख खान के लिए बुरे समय में साथ देने वाली सबसे अच्छी दोस्त साबित हुई।

About Rohit

I am writing article last 5 years, and i write article in every niche and now working on Viral Daily Khabar Website.

Leave a Reply

Your email address will not be published.