खबरेजरा हट के

आखिर क्यों हमारी दादी नानी जमीन पर बैठकर खाना बनाती थी, खड़े होकर रसोई बनाने से हो रहे नुकसान

जैसा कि हम जानते हैं कि दुनिया आधुनिक होती जा रही है और लोग स्टैंडर्ड होते जा रहे हैं। परंतु इस स्टैंडर्डाइजेशन के साथ कुछ विकार भी आ रहे हैं जिन्हें हम नजरअंदाज कर देते हैं। हमारी परंपराओं में कई ऐसी नई चीजें हमने शामिल कर दी है जो हमारे सेहत के लिए हानिकारक साबित हो रही है। उन्हीं में से एक हैं हमारा मॉड्यूलर किचन। बता दें कि आज का मॉड्यूलर किचन महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक सिद्ध होता दिखाई दे रहा है। यह दावा किया है मुंबई के रहने वाले डॉ. राहूल मारवाह ने जो की एमडी आयुर्वेद और फाउंडर वेदा हेल्थब्लिस आयुर्वेदा है।

रसोई में जमीन पर बैठकर खाना बनाने के फायदे

हमने पुराने समय में हमारी दादी नानी हो को रसोई में काम करते हुए देखा है। आमतौर पर उस समय जमीन पर बैठकर ही रसोई बनाई जाती थी। डॉ राहुल के अनुसार जमीन पर बैठकर रसोई बनाने के काफी फायदे हैं। जैसा कि हम देखते हैं कि जमीन पर बैठकर हमारी दादी या नानी जब रसोई बनाती थी तो उनका एक पैर जमीन से चिपका हुआ होता था और दूसरा पैर मुड़ कर पेट से चिपका हुआ होता था। ऐसे में उन्हें कमर दर्द और पेट दर्द जैसी कई बीमारियों से अपने आप छुटकारा मिल जाता था और साथ ही साथ यह एक स्ट्रैचिंग व्यायाम भी अपने आप में है। जमीन पर बैठकर रसोई बनाने से महिलाओं का पेट भी बाहर नहीं आएगा और शरीर का शेप भी ठीक रहेगा। इसलिए जमीन पर बैठकर रसोई बनाने से शारीरिक रूप से व्यक्ति को काफी फायदे मिलते हैं।

मॉड्यूलर किचन में काम करने के नुकसान

वही जब आज मॉड्यूलर किचन का प्रचलन बढ़ चुका है तो ऐसे में रसोई में महिलाओं को खड़े रहकर ही खाना बनाना पड़ता है। परंतु खड़े रहकर भोजन बनाने के कई सारे साइड इफेक्ट है। जैसा कि खड़े होकर रसोई बनाने में कई घंटे का समय लगता है इसलिए शरीर का पूरा भारत महिलाओं की लोअर बैक पर आता है जिसके कारण उन्हें लोअर बैक पेन होने लगता है। इतना ही नहीं मॉड्यूलर किचन में अधिक समय तक काम करने के वजह से महिलाओं को शोल्डर पेन, बैक पेन और घुटने और टखनों में भी पेन होने लगता है। कुछ महिलाएं खाना बनाते बनाते मोबाइल पर बात करती हैं और मोबाइल फोन को अपने कंधे और कान के बीच लगा कर रखती है। ऐसे में महिलाओं का बॉडी शेप तो बिगड़ता ही है साथ ही पोस्चर भी बिगड़ जाता है।

योगा और व्यायाम से बनाए अपने आपको फिट

ऐसे में महिलाओं को मॉडलर किचन का कम से कम प्रयोग करना चाहिए। यदि हो सके तो महिलाओं को नीचे बैठकर ही भोजन बनाना चाहिए या रसोई के अन्य काम करने चाहिए। परंतु अगर फिर भी आप मॉड्यूलर किचन में ही खड़े रहकर रसोई बनाना चाहते हैं तो आपको अपनी दिनचर्या में कुछ अच्छी चीजें शामिल करनी होगी। डॉक्टरों की सलाह के अनुसार जो महिलाएं पूरा दिन मॉड्यूलर किचन में काम करती है उन्हें रोजाना सुबह नियमित रूप से जल्दी उठकर योगा और प्राणायाम करना चाहिए जिसके कारण उनका शरीर चुस्त और दुरुस्त रह पाएगा। ऐसा करने से मॉडलर किचन से संबंधित होने वाली बीमारियों से आप बचे रहेंगे।

Rohit

I am writing article last 5 years, and i write article in every niche and now working on Viral Daily Khabar Website.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button