home page

‘Gangs of Wasseypur’ में अनुराग कश्यप को नही मिला था पसंदीदा हीरो, तो पंकज त्रिपाठी को दिया था मौक़ा

मौर्या जी आप जिस शहर में नौकर बनके आए हैं… हम मालिक हैं उस शहर के. किंग ऑफ मिर्जापुर कालीन भैया. ‘मिर्जापुर‘ से भौकाल मचाने वाले कालीन भैया उर्फ पंकज त्रिपाठीआज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं. अपनी एक्टिंग से लोगों के दिलों पर राज कर रहे पकंज त्रिपाठी का फिल्मी सफर काफी मुश्किल भरा
 | 
‘Gangs of Wasseypur’ में अनुराग कश्यप को नही मिला था पसंदीदा हीरो, तो पंकज त्रिपाठी को दिया था मौक़ा

मौर्या जी आप जिस शहर में नौकर बनके आए हैं… हम मालिक हैं उस शहर के. किंग ऑफ मिर्जापुर कालीन भैया. ‘मिर्जापुर‘ से भौकाल मचाने वाले कालीन भैया उर्फ पंकज त्रिपाठीआज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं.

अपनी एक्टिंग से लोगों के दिलों पर राज कर रहे पकंज त्रिपाठी का फिल्मी सफर काफी मुश्किल भरा था, लेकिन उन्होंने अपनी लग्न और मस्तमौजी स्वभाव से आसानी से पार कर लिया.

आपको पता है क्या…जिस ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ से एक्टर के सितारे बदले…उस फिल्म के डायरेक्टर अनुराग कश्यप पंकज को फिल्म में कास्ट नहीं करना चाहते थे.

फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में पंकज ने सुल्तान कुरैशी की भूमिका निभाई थी. यही वो फिल्म थी जिसने सालों से स्ट्रगल कर रहे पंकज त्रिपाठी को अंजाने में धमाकेदार ब्रेक दे दिया था और स्टार बनाया था.

फिल्म के कारण ही उनके बॉलीवुड करियर ने सफतार पकड़ ला थी. आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि डायरेक्टर अनुराग कश्यप अपनी फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में पंकज को लेना नहीं चाहते थे.

‘Gangs of Wasseypur’ में अनुराग कश्यप को नही मिला था पसंदीदा हीरो, तो पंकज त्रिपाठी को दिया था मौक़ा
‘Gangs of Wasseypur’ में अनुराग कश्यप को नही मिला था पसंदीदा हीरो, तो पंकज त्रिपाठी को दिया था मौक़ा

फिल्म की कास्टिंग की जिम्मेदारी मुकेश छाबड़ा की थी. अनुराग पकंज को जानते नहीं थे, इसलिए वह उन पर विश्वास नहीं कर पा रहे थे. वह अपनी फिल्म को लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे.

बॉलीवुड के बेस्ट कास्टिंग डायरेक्टर्स में से एक मुकेश ने ये बात एक इंटरव्यू में साझा कि थी. उन्होंने बताया कि फिल्म में कास्ट करने के लिए 384 एक्टर्स का ऑडिशन लिया गया था. एक साल से ज्यादा इस फिल्म के लिए ऑडिशन चले थे. छाबड़ा ने बताया कि वही थे जिन्होंने अनुराग कश्यप से पंकज त्रिपाठी को फिल्म में लेने के लिए कंवेंस किया था.

पंकज त्रिपाठी और मैं साथ में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में एक साथ पढ़े थे. मुझे पता था कि वह शानदार एक्टर हैं. मैंने उन्हें थिएटर में प्ले करते देखा था, पर अनुराग किसी और को लेने की बात कर रहे थे, मैं नाम नहीं लेना चाहता. मैंने पकंज को बुलाया, जो उस समय साउथ में शूट कर रहे थे और अनुराग को उनका ऑडिशन दिखाया. इसके बाद पकंज के मुरीद हो गए थे कश्यप सहाब.

एक्टिंग के दीवाने पंकज त्रिपाठी ने इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट में दाखिला लिया था, लेकिन दिल में तो कुछ और ही था. अपना खर्च निकाले के लिए एक्टर ने कुक की नौकरी की और नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में एडमिशन ले लिया.इसके बाद एक्टर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. लगातार अपनी एक्टिंग को निखारते रहे पकंज बॉलीवुड के सक्सेस एक्टर की लिस्ट में शुमार हो चुके हैं.