Breaking News

भारत का एक ऐसा मंदिर जिसका प्रसाद नहीं खा सकते लोग

भारत हमेशा से ही रहस्यों से भरी हुआ देश रहा है यहाँ पर हर धर्म के लोग रहते है और आपस में मिल कर रहते है ,भारत में बहुत से ऐसे मंदिर है जिनकी अपनी ही कहानी है .भारत में सबसे ज्यादा राम को मानने वाले लोग रहते है और सब ज्यादातर उनके ही पद चिन्हों पर चलने की कोशिश करते है और आपको पता ही होगा की राम जी के सबसे बड़े भगत थे हनुमान जी .हनुमान यानी बजरंगबली के हिंदुस्तान में काफी मंदिर है ,हनुमान को काफी नामो से पुकारा जाता है जैसे की पवन पुत्र,मारुती नंदन महावीर और पवन सूत लेकिन आपको ये नहीं पता होगा की हनुमान का एक ऐसा मंदिर है जहा का प्रसाद कोई भी आदमी नहीं खाता तो चलिए जानते है कोनसा है ये मंदिर और कहा है .

क्यों नहीं खा सकते इस मंदिर का प्रसाद 

राजस्थान में दोसा की दो पहाडियों के बीच हनुमान यानी बंजरंग बलि का एक बहुत ही बड़ा मंदिर है जिसका नाम मेहंदीपुर बाला जी है ,इस मंदिर में पुरे साल भगतो की लाइन लगी रहती है और इस मंदिर में भगत अपने कष्ट के निवारण के लिए आते है .और कुछ भगत इसलिए आते है क्योकि उनकी कोई इच्छा पूरी हो जाती है और वो खुश हो कर भगवन का धन्यवाद करने आते है .

आपको बता दे की इस मंदिर में हनुमान जी अपने बाल स्वरुप में विराजमान है और उनके सामने ही श्री राम और सीता जी की मुर्तिया भी है .भक्तो की मान्यता की अनुसार इस मंदिर में बाला जी के बालस्वरूप में दर्शन करने के बाद अगर आपके ऊपर कोई उपरी बाधा है तो उस से आसानी से मुक्ति मिल जाती है .

और इन सब उपरी बाधाओ से मुक्ति पाने के लिए बहुत सारे भगत यहाँ आते है और दर्शन का लाभ लेते है ,यहाँ पर बालाजी के साथ प्रेत राज और भैरव बाबा के भी दर्शन करते है .यहाँ पर हर रोज 2 बजे प्रेतराज सरकार के दरबार में कीर्तन किया जाता है और यही पर लोगो के ऊपर कोई भी उपरी बाधा हो तो उसका निवारण किया जाता है .इस मंदिर के बारे में ये कहा जाता है की इस मंदिर में जो भी एक बार बालाजी के दर्शन कर लेता है और पूरी तरह से स्वस्थ हो कर वापिस जाता है .

लेकिन इस मंदिर के कुछ अलग ही नियम है कहा जाता है की इस मंदिर में जो भी दर्शन करने के लिए आता है उसको एक हफ्ते पहले ही मदिरापान लहसुन और प्याज का त्याग करना पड़ता है .साथ ही साथ ये भी कहा जाता है की यहाँ पर जो परशाद मिलता है उसको न तो अपने आप खाना है और नहीं किसी दुसरे को देना है .साथ ही साथ आपको अपने साथ यहाँ से कोई भी चीज़ या फिर सुगन्धित प्रसाद साथ नहीं ले जाना है ताकि कोई भी साया यहाँ से आपके साथ घर न चला जाये .

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.