जरा हट के

भारत का एक ऐसा मंदिर जहा घी से नहीं पानी से चलता है दीपक

इस दुनिया में एक से एक चमत्कार भरे पड़े है कुछ लोग तो भगवान् को मानते है और कुछ लोग नहीं ,लेकिन फिर भी भगवान् पर विश्वाश करने वालो की संख्या बहुत ज्यादा है .आप भी भगवान् को मानते होगे और पूजा करने के लिए मंदिर तो जरूर जाते होगे ,और मंदिर जा कर घी और तेल का दिया भी जलाते है .लेकिन अगर हम आपको ये बताये की भारत में एक ऐसा मंदिर है जहा दिया घी और तेल से नहीं बल्कि पानी से जलता है ,आपको तो एक बार विश्वाश ही नहीं होगा पर ये बिलकुल सच है .

कहा है ये जगह 

अगर मीडिया रिपोर्ट की माने तो ये जगह है मध्य प्रदेश के साजपुर जिले गाड़िया घाट वाली माता के मंदिर के नाम से मशहूर काली सिंध नदी के किनारे अगर मालवा के नलखेडा गाव से लगभग 15 किलोमीटर दूर है .ये कहा जाता है की इस मंदिर में पिछले 5 साल से एक दिया जल रहा है ,वही दूसरी तरफ इस मंदिर के पुजारी का कहना है की इस दिए को जलाने के लिए न तो किसी घी और तेल की जरूरत नहीं होती .बल्कि ये दीपक पानी से जलता है ,पुजारी का कहना है की पहले ये दिया घी और तेल से जलता था लेकिन एक बार माता ने उनके सपने में आ कर कहा की ये दीपक जलाओ बिना घी और तेल से और तब से ये दिया बिना तेल और घी से चल रहा है .

ये सपना आने के बाद पुजारी उठे और पास में बह रहे नदी से पानी भर के लाये और इस दिए में डाला और फिर रुई के बती बनायीं और माचिस से जलाया और ये दिया जल उठा .शुरू में पुजारी ने ये नजारा देखा तो वो डर गए और पुरे दो महीने तक इस बारे में किसी को कुछ भी नहीं बताया ,इसके बाद उन्होंने ये बात गाव वालो को बताई लेकिन गाव वालो को विश्वाश नहीं हुआ .लेकिन जब गाव वालो ने खुद पानी डाल कर दिए को जलाया तो ये दिया जल उठा तब जाके उनको विश्वाश हुआ .लेकिन ये दिया बरसात के मौसम नहीं जलता क्योकि बरसात के दिनों में ये मंदिर पूरा पानी में डूब जाता है और जब बरसात का मौसम ख़तम हो जाता है तो दिया फिर से जल जाता है .

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button