जरा हट के

अंगूर के एक दाने की कीमत 35000, जानें क्या हैं इसकी खासियत

भारत में इन दिनों पेट्रोल-डीजल के रेट में रिकॉर्ड तेजी से देखने को मिली. दरदसल पिछले कुछ समय में महंगाई का ग्राफ काफी तेजी से उपर की ओर भागा हैं. खाने के तेल से लेकर रोजमर्रा की चीजों में काफी महंगाई देखने को मिली हैं. इन सब के बीच जापान के ऐसे अंगूर के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसके एक सिर्फ एक दाने की कीमत भी 35 हजार रूपए हैं. दरअसल ये अंगूर किसी बाजार में नहीं बिकता हैं, बल्कि इसकी नीलामी की जाती हैं.

भारत में कई अलग-अलग तरह के अंगूर की खेती की जाती हैं हालाँकि हरे और काले अंगूर को सबसे अधिक पसंद किया जाता हैं, इनका स्वाद भी काफी अलग होता है. हालाँकि सभी प्रकार के अंगूर जापान में मिलने वाले रूबी रोमन के सामने फेल है. जापानी अंगूर का साइज़ अन्य अंगूर से अलग होता हैं. दरअसल अंगूर का साइज़  टमाटर की तरह होता हैं. खाने में भी ये अंगूर काफी मीठा होता हैं. अतिरिक्त मिठास के कारण इसे काफी पसंद किया जाता हैं. एक रोचक बात ये हैं कि इस खास अंगूर को जापान की एक कंपनी तैयार करती है. इशिकावा प्री फ्रेक्चरल के अलावा इसे कोई नहीं उगाता.

इस स्पेशल अंगूर की कीमत की बात करे तो ये अंगूर  किसी भी मार्किट में नहीं बिकता हैं, बल्कि इसकी सेल नीलामी के माध्यम से की जाती हैं. नीलामी में जो भी लोग इस अंगूर की बोली लगाते हैं, उन्हें ही ये खास फल मिलता हैं. अंतिम बार हुई नीलामी में इसके सिर्फ 24 दाने खरीदने के लिए 8 लाख 17 हजार का भुगतान करना पड़ा था. इस मतलब ये हुआ अंगूर के सिर्फ एक दाने की कीमत लगभग 35 हजार रूपए हैं. अगर एक किलो अंगूर की कीमत बात करे तो एक विशेष फल की एक किलो की कीमत से हम एक तोला सोना खरीद सकते हैं.

जापान का ये खास अंगूर पहला फल नहीं हैं जो इतना  महंगा बिकता हैं. कुछ समय पहले ही भारत के मध्यप्रदेश में एक आम काफी वायरल हुआ था. जिसकी सुरक्षा के लिए बॉडीगार्ड्स तैनात किए गए थे. इस एक किलो स्पेशल आम की कीमत लगभग 2.5 लाख रूपए हैं. इसी तरह दुनिया में ऐसे कई अन्य फल भी हैं जो काफी महंगे बिकते हैं. इसी तरह जापान का ही चौकौर तरबूज भी काफी महंगा फल हैं, जिसकी कीमत लगभग 60 हजार रूपए है. जापान की ही सेंबिकिया स्ट्रॉबेरी भी काफी महंगी बिकती हैं. इस खास स्ट्रॉबेरी के सिर्फ 12 पीस की कीमत लगभग 6 लाख रूपए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button