Breaking News

आदिवासी इलाके में नहीं था रोजगार आज वहा महिलाये बॉस की ज्वेलरी बना कर लाखो कमा रही

अगर करने की चाहत हो तो इन्सान कुछ भी कर सकता है आज हम को एक ऐसी असली कहानी बताने जा रहे है जो आपके सोचने की दिशा बदल देगी ,ये कहानी गुजरात के आदिवासी इलाके की है जहा पहले कोई रोजगार नहीं था लेकिन अब वो बॉस की ज्वेलरी बना करलाखो कमा रही है .लेकिन ये काम जिसने शुरू किया वो है राजस्थान के अलवर की रहने वाली सलोनी है जिन्होंने बसुंली नाम की संस्था बनायीं और अब बॉस की मदद से ज्वेलरी और घर को सजाने वाली चीज़े बना कर और बेच कर लाखो कमा रहे है .उनका एक साल का टर्न ओवर 15 लाख के करीब है और फोर्ब्स की अंडर 30 में उनका नाम भी आया है .

कैसे किया ये काम शुरू 

ये कहानी है सलोनी की जिनका बचपन राजस्थान के अलवर में बिता फिर उसके बाद उन्होंने दिल्ली से ग्रेजुएशन की और उसके बाद दूसरी यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री ली .इसके बाद सलोनी की जॉब लग लगी लेकिन सलोनी का इसमें मन नहीं लग रहा था क्योकि वो सोशल सेक्टर में जाना चाहती थी ,और इसलिए सलोनी ने इसके बारे में खोजबीन करना शुरू कर दिया .तब उनको sbi की एक फ़ेलोशिप के बारे में पता लगा ,जिसमे गाव के एरिया में जा कर काम करना था फिर क्या था सलोनी ने ये फार्म भर दिया .इसके कुछ दिनों बाद सलोनी का इंटरव्यू हुआ और उनका इसमें सिलेक्शन हो गया .

लेकिन जब आप कोई अच्छा काम करने की शुरवात करते हो तो कुछ अडचने भी आगे आती है ,जिस दिन इनको ज्वाइन करना था उसी दिन उनकी सगाई की तारीख भी थी .लेकिन दोनों परिवार ने इनको सहयोग दिया और बोला की सबसे पहले अपना ड्रीम पूरा करो सगाई तो कभी भी हो जाएँगी .इसके बाद वो बाद वो पुणे गयी और उसके बाद 13 महीने के प्रोजेक्ट के लिए गुजरात भेज दिया गया .

इनको जहा भेजा गया उस जगह का नाम था गुजरात का डांग जो की एक जिला था और जिसमे 90 परसेंट आबादी केवल आदिवासियों की थी .ये इलाका कुदरत ने पूरी तरह से सजा रखा था जगह जगह जंगल ,पहाड़ और सुंदर सुंदर झरने चारो तरफ फैले हुए थे लेकिन यहाँ के लोगो की कमाई का साधन केवल खेती था जिस से इनको कुछ ख़ास कमाई नहीं हो रही थी और यहाँ के लोग तंगहाली में जीवन काट रहे थे .

इसके बाद इन्होने कुछ नया काम करने को सोचा और आदिवासी महिलाओ को बॉस की ज्वेलरी बनाने के काम को कहा लेकिन शुरवात में इनका साथ ज्यादा लोगो ने नहीं दिया केवल 4-5 महिलाये ही इस काम को करने को तयार हुई .फिर इन्होने इस काम को शुरवात करने की तयारी की लेकिन ये काम कोई नया काम नहीं था कुछ राज्यों में ये काम पहले से हो रहा था लेकिन सलोनी ने इस काम को कुछ हट कर किया और थोड़े दिनों में ही बहुत से लोगो ने इनका साथ देना शुरू कर दिया .और धीरे धीरे इनकी कमाई भी बड गयी और आज इनकी सलाना कमाई 15 लाख से ऊपर है और देश विदेश से इनको आर्डर आ रहे है .

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.