ठंड का मौसम आते ही सांप, छिपकली, घड़ियाल जैसे जीव क्यों हो जाते हैं सुस्त ? जाने इसके पीछे की असली वजह

Mohini Kumari
2 Min Read

छिपकलियां घर से सर्दियों के शुरू होते ही चली जाती हैं। चिड़ियाघर में सांप, अजगर, कछुए और घड़ियाल सभी बहुत थक गए दिखते हैं। यह कभी-कभी पूरी तरह से नहीं हिलते।

आखिर क्यों घड़ियाल, सांप, मगरमच्छ, छिपकली और कछुए सर्दियां शुरू होते ही थक जाते हैं? क्या ये गहरी नींद में सोते हैं या कोई और कारण है?

टर्टल सर्वाइवर अलायंस इंडिया के निदेशक डॉ. शैलेंद्र सिंह ने बताया कि सरीसृप (Reptiles), यानी रेंगकर चलने वाले हर जीव, सर्दी में अधिक ठंड में जाते हैं।

जैसे, जब तापमान कम होने लगता है, लोग भारत में चलना-फिरना बंद कर देते हैं। खाना भी बंद कर दें। ये जानवरों का ठंडा खून इसकी मुख्य वजह है।

सूरज से करते हैं खुद को चार्ज

जैविक विज्ञानी शैलेंद्र सिंह ने कहा कि इन जानवरों को सूरज की रोशनी चाहिए। इन्हें उसका तापमान मिलता है। यही कारण है कि सर्दियों के बाद जैसे ही धूप निकलने लगती है, वे फिर से ऊर्जावान हो जाते हैं और चलने लगते हैं।

हाइबरनेशन तब होता है जब कोई जानवर सर्दी में जीवित रहने के लिए अपनी हृदय गति को धीमा कर देता है। शीतनिद्रा में कुछ जानवर धीमे हो जाते हैं और कम गति से चलते हैं, लेकिन अन्य वसंत तक नींद में रहते हैं।

Share this Article