इस देश में है समंदर के ऊपर बना हुआ है दुनिया का सबसे लंबा ब्रिज, जिसको बनाने में लगे 9 साल तो बैंकों से लोन लेकर पूरा किया प्रोजेक्ट

Mohini Kumari
3 Min Read

दुनिया भर में इंजीनियरिंग कला का बेहतरीन उदाहरण हैं। उन्हें देखकर अपनी आंखों पर विश्वास नहीं होता। लोगों को हैरान करने वाले कुछ इंफ्रास्ट्रक्चर बनाए गए हैं। चीन का हॉन्ग कॉन्ग-झुहाई-मकाउ पुल भी कला का एक उदाहरण है। 55 किलोमीटर लंबा ये समुद्री पुल दुनिया में सबसे लंबा है। चीन ने इसे बनाने में इतने पापड़ बेले हैं कि भारत में कभी कोई नहीं बना पाता।

चीन ऐसे कंस्ट्रक्शन करने के लिए जाना जाता है जो बेहद यूनिक होते हैं. ये ब्रिज इसका प्रतिनिधित्व करते हैं। इसे बनाने में चीन को नौ वर्ष लगे। 2009 में इसका निर्माण शुरू हुआ था और 2018 में पूरा हुआ था। पुल बनने से लोगों को बहुत फायदा हुआ।

चीन से Hong Kong 3 घंटे में पहुंचा जाता था। पुल बन जाने से ये समय 30 मिनट का हो गया. इस पुल को बनाने में समुद्र के ऊपर चार लाख टन स्टील का इस्तेमाल किया गया। 60 एफिल टावर इससे बनाए जा सकते हैं।

अपने आप में अजूबा

यह हॉन्ग कॉन्ग-झुहाई-मकाउ पुल अपने आप में एक विचित्र दृश्य है। इस पुल में त्रिकोणीय पुल है। टोटल पुल की लंबाई में से 6.7 किलोमीटर सुरंग के अंदर से गुजरती है. 44 मीटर की गहराई में है।

पुल को खड़ा रखने के लिए समुद्र में कई अलग-अलग द्वीप भी बनाए गए थे। पुल को ऐसे बनाया गया है कि यह भूकंप भी सह सकता है। साथ ही समुद्री; लहरों से भी नहीं प्रभावित होगा।

बैंक से लिया इतना लोन

पुल बनाने की लागत की बात करते हैं। ये पुल 70 अरब रुपये में बनाया गया है। चीन की सरकार ने इसके निर्माण में 42 प्रतिशत खर्च करने का वादा किया था। इसके अतिरिक्त, बैंक ऑफ चाइना ने 31 अरब का लोन दिया। बाद में ये अजूबा पुल बन गए।

आज, हर दिन हजारों व्हीकल्स इस पर दौड़ते हैं। जब इस पुल का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया गया, बहुत से लोगों ने सम्भलकर चलने की सलाह दी। उन्होंने चीन को मजाक बनाते हुए कहा कि ये बनाया गया है चीन में। सावधानी आवश्यक है।

Share this Article